vibhishan

sugriv

सुग्रीव ने रात को लंका नगर पर आक्रमण क्यों किया?-भाग 52

मेघनाद के क्षणिक जीत से राक्षसों का मनोबल फिर बढ़ गया था। इधर घायल और मरे हुए राम सेना के जीवित और स्वस्थ होने से उनका मनोबल भी बढ़ गया था। सामान्यतः रात में युद्ध नहीं होता था लेकिन ये नियम तो राक्षस सेना पहले दिन से ही तोड़ चुकी थी। अब युद्ध दिन रात …

सुग्रीव ने रात को लंका नगर पर आक्रमण क्यों किया?-भाग 52 Read More »

meghnad

मेघनाद दुबारा युद्ध में क्यों आया?-भाग 51          

राम-रावण युद्ध में अब तक कुंभकर्ण सहित लगभग सारे प्रमुख योद्धा और सेनापति मारे जा चुके थे। स्वयं रावण भी एक बार राम से हार चुका था। केवल मेघनाद ही ऐसा योद्ध था जो बिना हारे या मरे युद्धभूमि से लौटा था। इतना ही नहीं उसने राम-लक्ष्मण को घायल भी कर दिया था। अतः पिता …

मेघनाद दुबारा युद्ध में क्यों आया?-भाग 51           Read More »

राम-रावण की पहली मुठभेड़ कब हुई और इसका क्या परिणाम हुआ?-भाग 49         

मेघनाद के द्वारा राम-लक्ष्मण के घायल होने और नागपाश में बंध जाने पर राक्षस सेना में जीत की खुशी छा गई थी। रावण ने अपने बेटे मेघनाद का इस कार्य के लिए बहुत सम्मान किया। राक्षस सेना मान रही थी कि अपने मुख्य सेनापति की मृत्यु के बाद राम सेना खुद ही लौट जाएगी। इसीलिए …

राम-रावण की पहली मुठभेड़ कब हुई और इसका क्या परिणाम हुआ?-भाग 49          Read More »

Scroll to Top