ravan

meghnad

मेघनाद द्वारा राम-लक्ष्मण को युद्ध में घायल करना-भाग 48

भारतीय उपमहाद्वीप में युद्ध का एक सामान्य नियम था कि रात को युद्ध नहीं होता था। लेकिन राक्षसों की शक्ति रात को बढ़ जाती है। इसलिए वे रात को भी युद्ध करते रहे। इसलिए युद्ध दिन-रात दोनों चला। राक्षसों को उम्मीद थी कि रात्री युद्ध में वे नर (राम-लक्ष्मण) और वानर (वानर, रीछ आदि सेना …

मेघनाद द्वारा राम-लक्ष्मण को युद्ध में घायल करना-भाग 48 Read More »

sita

सीता स्वर्ण मृग क्यों पाना चाहती थी?-भाग 30 

रावण को सीता हरण के लिए सलाह सीता हरण और राम-रावण युद्ध संभव हो पाया सीता द्वारा सुनहरे रंग के एक बहुत ही सुंदर मृग को देख कर उसे पाने की इच्छा से। इस संबंध में कई तरह के प्रश्न किए जाते हैं। जैसे, सीता मृग को क्यों मरवाना चाहती थी? क्या राम मांसाहारी थे? …

सीता स्वर्ण मृग क्यों पाना चाहती थी?-भाग 30  Read More »

Scroll to Top