ramvanvas

sita_haran

सीता के अपहरण की योजना-भाग 29       

अकंपन द्वारा रावण को दंडकारण्य में राक्षसों के संहार की सूचना देना खर-दूषण और राम के युद्ध में से जो कुछ राक्षस भाग कर जीवित बच गए थे, उनमें से एक का नाम था अकम्पन। वह भाग कर लंका राक्षसराज रावण के पास पहुँचा। उसके खर-दूषण आदि के साथ दंड्कारण्य के अधिकांश राक्षसों का राम …

सीता के अपहरण की योजना-भाग 29        Read More »

khar_dushan

अकेले राम ने 14 सैनिक सहित खर-दूषण आदि को क्यों और कैसे मारा?-भाग 28       

खर-दूषण का आक्रमण सीता पर अकारण हमला के लिए उस समय के शास्त्र में विहित दंड के रूप में राम के कहने पर लक्ष्मण ने शूर्पनखा का नाक-कान काट कर उसे कुरूप और घायल कर दिया। वह रोते हुए वहाँ से अपने भाई खर-दूषण के पास भागी और उन्हें युद्ध के लिए उकसाने लगी। यही …

अकेले राम ने 14 सैनिक सहित खर-दूषण आदि को क्यों और कैसे मारा?-भाग 28        Read More »

shurpnakha

लक्ष्मण जी द्वारा शूर्पनखा का नाक-कान काटना क्या क्रूरता थी?-भाग 27      

शूर्पनखा के आगमन की पृष्ठभूमि राम द्वारा राक्षसवध का आरंभ हुआ राक्षसराज रावण की बहन शूर्पनखा के द्वारा राम-लक्ष्मण से प्रणय निवेदन से। शूर्पनखा को लक्ष्मण जी ने नाक, कान कर कुरूप और घायल कर दिया। इस प्रसंग में राम-लक्ष्मण की आलोचना दो कारणों से की जाती है। पहला, कुछ लोग मानते हैं कि उसने …

लक्ष्मण जी द्वारा शूर्पनखा का नाक-कान काटना क्या क्रूरता थी?-भाग 27       Read More »

viradh

राम ने विराध को क्यों जीवित ही जमीन में दबा दिया?-भाग 25   

राम का चित्रकूट से दंडकारण्य जाना राम ने अपने वनवास काल चित्रकूट के बाद दंड्कारण्य को अपना दूसरा निवास बनाया था। दंड्कारण्य एक दुर्गम वन था। वहाँ राक्षस और अन्य ख़तरे चित्रकूट की अपेक्षा अधिक थे। ऋषि अत्रि ने उन्हें पहले ही इन खतरों की चेतावनी दे दी थी। लेकिन दुष्ट राक्षसों का वध और …

राम ने विराध को क्यों जीवित ही जमीन में दबा दिया?-भाग 25    Read More »

bharat

राम के वनवास अवधि में भरत जी ने क्या प्रतिज्ञा ली थी?-भाग 23 

भरत का चित्रकूट पहुँचना अयोध्या में अपने पिता राजा दशरथ का अंतिम संस्कार करने के बाद भरत अपने भाई शत्रुघ्न, समस्त परिवारजन, उच्चाधिकारी, सेना, प्रजाजन आदि सब को साथ लेकर राम को मना कर वापस अयोध्या लाने के लिए चित्रकूट, जहां राम उस समय तपस्वी वेश में सीता और लक्ष्मण के साथ रह रहे थे, …

राम के वनवास अवधि में भरत जी ने क्या प्रतिज्ञा ली थी?-भाग 23  Read More »

bharat

भरत राम से मिलने चित्रकूट क्यों गए थे?-भाग 22  

भरत द्वारा राम के पास वन में जाने का विचार जब कैकेयी ने वरदान माँगा तब भरत-शत्रुघ्न अपने राज्य में नहीं थे। यहाँ आने के बाद उन्हें पिता की मृत्यु और भाइयों के वनवास का पता चला। दिवंगत राजा दशरथ के अंतिम संस्कार सम्पन्न हो जाने के बाद राज्य के सभी उच्च अधिकारियों ने एक …

भरत राम से मिलने चित्रकूट क्यों गए थे?-भाग 22   Read More »

Scroll to Top