gautam

sita

सीता जी के विवाह के लिए शर्तें क्या थीं और राम ने उन्हे कैसे पूरा किया?-भाग 10

राम-लक्ष्मण का मिथिला जाना और वहाँ उनका स्वागत-सत्कार ऋषि विश्वामित्र के आश्रम में उनके यज्ञ की रक्षा का कार्य सम्पन्न हो जाने के बाद ऋषि की इच्छानुसार राम-लक्ष्मण ऋषि विश्वामित्र और उनके शिष्यों के समूह के साथ मिथिला के लिए चले। इस यात्रा का उद्देश्य था जनक के अद्भुत धनुष और धनुष यज्ञ का दर्शन …

सीता जी के विवाह के लिए शर्तें क्या थीं और राम ने उन्हे कैसे पूरा किया?-भाग 10 Read More »

अहल्या: आत्मबल से आत्मसम्मान की एक प्रेरक गाथा-भाग 9  

अहल्या सिद्धाश्रम से मिथिला जाने के क्रम में राम ने जो सबसे प्रसिद्ध कार्य रास्ते में किया, वह है अहल्या को शाप मुक्त करना। अहल्या रामायण की एक ऐसी पात्र है जो एक तरफ तो “व्यभिचारिणी” होने के कारण पति द्वारा दंडित हुई। तो दूसरी तरफ सती और “पाँच कन्या” में से एक के रूप …

अहल्या: आत्मबल से आत्मसम्मान की एक प्रेरक गाथा-भाग 9   Read More »

Scroll to Top