angad

राम-रावण की पहली मुठभेड़ कब हुई और इसका क्या परिणाम हुआ?-भाग 49         

मेघनाद के द्वारा राम-लक्ष्मण के घायल होने और नागपाश में बंध जाने पर राक्षस सेना में जीत की खुशी छा गई थी। रावण ने अपने बेटे मेघनाद का इस कार्य के लिए बहुत सम्मान किया। राक्षस सेना मान रही थी कि अपने मुख्य सेनापति की मृत्यु के बाद राम सेना खुद ही लौट जाएगी। इसीलिए …

राम-रावण की पहली मुठभेड़ कब हुई और इसका क्या परिणाम हुआ?-भाग 49          Read More »

meghnad

मेघनाद द्वारा राम-लक्ष्मण को युद्ध में घायल करना-भाग 48

भारतीय उपमहाद्वीप में युद्ध का एक सामान्य नियम था कि रात को युद्ध नहीं होता था। लेकिन राक्षसों की शक्ति रात को बढ़ जाती है। इसलिए वे रात को भी युद्ध करते रहे। इसलिए युद्ध दिन-रात दोनों चला। राक्षसों को उम्मीद थी कि रात्री युद्ध में वे नर (राम-लक्ष्मण) और वानर (वानर, रीछ आदि सेना …

मेघनाद द्वारा राम-लक्ष्मण को युद्ध में घायल करना-भाग 48 Read More »

Scroll to Top